हार्ले डेविडसन की शुरुआत कैसे हुई harley davidson success story in hindi

हार्ले डेविडसन का प्रारंभिक जीवन –Harley Davidson Early Life Information in Hindi


1901 में 20 साल की उम्र में विलियम हार्ले ने साइकिल के पेडल से छुटकारा पाने के लिए उसे बाइक में बदलने का फैसला किया। और फिर वे इस सपने को साकार करने के लिए इंजन बनाने में लग गए। जिसे कि वह साइकिल में फिट कर सके। और इस काम में उनकी मदद की उनके बचपन के दोस्त ऑर्थर डेविडसनऔर ऑर्थर के भाई वाल्टर डेविडसन ने।

हार्ले डेविडसन की शुरुआत कैसे हुई harley davidson success story in hindi


तीनों ने मिलकर कड़ी मेहनत के बाद 2 साल के अंदर 116cc का एक छोटा सा इंजन बनाया। जोकि पैडल वाली साइकिल में भी फिट हो जाता था। लेकिन इस इंजन से जुड़ी साइकिल को छोटे से पहाड़ पर चढ़ाया जाता तो वह नहीं चढ़ पाती थी। दरअसल वह लोग अमेरिका की मिलवॉकी नाम की जगह पर रहते थे। जहां पर छोटे-छोटे बहुत सारे पहाड़ थे।
इसी कारण की वजह से उनका वह इंजन असफल रहा।

हालांकि इस असफलता से उन्होंने हार नहीं मानी। और इस समस्या को हल करने के लिए वह नई खोज में लग गए।
उन्होंने अपने घर के पीछे एक छोटा सा वर्कशॉप बनाया। यहां पर ऑर्थर और वॉल्टर के बड़े भाई विलियम डेविडसन ने भी उनकी बहुत मदद की। और यही चार लोग हार्ले डेविडसन के फाउंडर माने जाते हैं।

हार्ले डेविडसन की शुरुआत कैसे हुई harley davidson success story in hindi


जल्द ही उन्होंने 450cc के साथ एक नई बाइक लाए। और यह पहाड़ों पर आसानी से चढ़ सकती थी। और पिछली वाली बाइक से 4 गुना ज्यादा मजबूत थी। और इस बाइक की सफलता के साथ हार्ले डेविडसन ने इस बाइक की बिक्री शुरू कर दी।


1904 में मिलवॉकी के एक मोटरसाइकिल रेस में हार्ले डेविडसन को प्रेजेंट किया गया। और फिर यहीं से इस ब्रांड को पहचान मिलनी शुरू हुई। 1905 में हार्ले डेविडसन की कुल 12 बाइक विकी। आगे चलकर 1906 हार्ले डेविडसन ने चेस्टनट स्ट्रीट में अपनी पहली फैक्ट्री खोली। जहां पर आज भी हार्ले डेविडसन का कॉरपोरेटर हेड क्वार्टर है।

हार्ले डेविडसन की शुरुआत कैसे हुई harley davidson success story in hindi

और इसी साल हार्ले डेविडसन का उत्पादन 12 मोटरसाइकिल से 50 मोटरसाइकिल हो गया। और आगे भी मोटरसाइकिल की डिमांड बढ़ती गई और कंपनी ने 1907 में 150 मोटरसाइकिल बेची। और इसी साल हार्ले डेविडसन को अधिकारिक रूप से रजिस्टर किया गया।


इंजन की सुधार करने के बाद हार्ले डेविडसन का उत्पाद 1907 में 450 मोटरसाइकिल और 1909 में 1150 हो गया। और इस कंपनी के लिए पहला विश्व युद्ध बहुत ही फायदेमंद रहा। सरकार ने 20,000 से ज्यादा बाइक इस दौरान खरीदी थी। और विश्व युद्ध खत्म होने के बाद अमेरिका के फौजियों ने इसी बाइक पर बैठकर जर्मनी में प्रवेश किया।


1920 आते-आते हार्ले डेविडसन 67 देशों में पहुंच चुकी थी। और यह कंपनी उस समय की सबसे बड़ी मोटरसाइकिल बनाने वाली कंपनी बन गई। हालांकि 1933 में मंदी के दौर में बाइक की बिक्री 21000 से घटकर 3703 रह गई।
लेकिन 1934 मैं कंपनी ने काफी सारी बदलाव करके बाइक की एक नई सीरीज निकाली।

हार्ले डेविडसन की शुरुआत कैसे हुई harley davidson success story in hindi

1941 में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 4 साल के लिए केवल अमेरिका के फौजियों के लिए 90000 मोटर साइकिल बनाई। और उनके अच्छे प्रदर्शन के लिए उन्हें दो बार नेवी का ई अवार्ड दिया गया। पहला 1943 में और दूसरा 1945 में।
आगे चलकर 1969 में अमेरिकन मिसनेरियन एंड फाउंडेशन ने इस कंपनी को खरीद लिया।

हालांकि उन्होंने बाइक की क्वालिटी में कमी कर दी और इसकी बिक्री बहुत कम हो गई। दरअसल इस बाइक के कंपटीशन में बहुत सारी जैपनीज कंपनी आ गई थी। जिनकी क्वालिटी भी कम होती थी और प्राइस भी बहुत कम होता था।


आगे चलकर इस कंपनी को वोगन बील्स और बिली डेविडसन को बेच दिया। और उन्होंने इस कंपनी में सुधार लाया और मोटरसाइकिल की क्वालिटी में सुधार लाने के साथ-साथ टेक्नोलॉजी को भी इंप्रूव किया।


हालांकि उन्होंने भी इस कंपनी को स्पोर्ट्स कार बनाने वाली कंपनी बुएल को बेच दिया। अगर बात की जाए भारत की तो यहां पर 2009 में हार्ले डेविडसन की बाइक आई।

और पढ़े

Note:

आपके पास मैं और हार्ले डेविडसन की शुरुआत कैसे हुई harley davidson success story in hindi Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इसे समय समय पर अपडेट करते रहेंगे.अगर आपको हमारे लेख अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook और WhatsApp पर Share कीजिये.E-MAIL Subscription करे और पायें बड़े आसानी लेख अपने ईमेल पर.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here