धीरूभाई अंबानी भारत के सबसे अमीर आदमी होने तक का सफर Dhirubhai ambani biography in hindi

dhirubhai ambani story


बड़ा सोचो, जल्दी सोचो और आगे की सोचो क्योंकि विचारों का किसी एक पर अधिकार नहीं है ऐसा कहना है धीरूभाई अंबानी का जिन्होंने एक साधारण इंसान होने से दुनिया के सबसे अमीर आदमियों में शामिल होने का काम किया बहुत कम लोग जानते होंगे कि धीरूभाई अंबानी का असली नाम धीरज लाल गोवर्धन दास अंबानी है।

धीरुभाई अंबानी का प्रारंभिक जीवन – Dhirubhai ambani Early Life Information in Hindi

धीरुभाई का जन्म 28 दिसंबर 1932 को गुजरात के चोर बाढ़ गांव में हुआ था। हाई स्कूल में ही उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और उसके बाद पकोड़े बेचना शुरू कर दिया दोस्तों धीरुभाई का मानना था कि पैसों से पढ़ाई का कोई संबंध नहीं है क्योंकि यह जरूरी नहीं कि एक पढ़ा लिखा इंसान ही पैसा कमा सकता है

कुछ सालों तक घूम घूम कर पकौड़े बेचने के बाद सन 1948 में 16 साल की उम्र में वह अपने भाई रमणिकलाल की सहायता से अपने दोस्त के साथ यमन के एडन शहर काम करने चले गए। एडन पहुंचकर उन्होंने सबसे पहले पेट्रोल पंप पर काम किया फिर कुछ दिनों बाद उसी कंपनी में क्लर्क ईयर पोस्ट पर ₹300 प्रतिमाह वेतन पर काम करने लगे वे अपने दिनभर के काम के बात भी पार्ट टाइम कुछ ना कुछ काम करते रहते थे जिससे उनके साथियों में सबसे ज्यादा पैसा उनके पास था।

धीरूभाई अंबानी भारत के सबसे अमीर आदमी होने तक का सफर Dhirubhai ambani biography in hindi

लेकिन उनके दिमाग में फिर भी कहीं ना कहीं यह रहता था क्यों ने अगर अमीर बनना है तो खुद का बिजनेस शुरू करना होगा। और बिजनेस के लिए पैसे तो चाहिए होंगे कई जगह पर काम करने के बावजूद उन्होंने अपने काम में कभी भी कमी नहीं की और पूरी मेहनत और लगन से अपना दायित्व पूरा किया।

इसीलिए काम से खुश होकर उनके मालिक ने उनका प्रमोशन कर उनको मैनेजर के पद पर कर दिया लेकिन थोड़े दिन उस काम को करने के बाद उन्होंने काम छोड़ दिया। और अपने वतन हिंदुस्तान चले आए।
क्योंकि उनके दिमाग में तो कुछ और ही चल रहा था

1955 में उन्होंने ₹15000 लगाकर अपने चचेरे भाई चंपकलाल द वेरी के साथ मिलकर मसाले के निर्यात और पॉलिस्टर धागे का बिजनेस स्टार्ट किया। उनकी मेहनत के दम पर अगले कुछ सालों में कंपनी टर्नओवर ₹1000000 सालाना हो गया उस समय पॉलिस्टर से बने कपड़े भारत में नए थे और यह सूती के मुकाबले लोगों में ज्यादा पसंद आने लगा क्योंकि यह सस्ता और टिकाऊ था। और इसमें चमक होने के कारण पुराने होने के बाद भी यह नया जैसा दिखाई देता था और लोगों द्वारा पसंद किए जाने की वजह से जल्द ही उनका मुनाफा कई गुना बढ़ गया।

कुछ वर्षो के बाद धीरूभाई अंबानी और चंपकलाल दमानी की व्यवसायिक साझेदारी समाप्त हो गई। क्योंकि दोनों के स्वभाव और व्यापार करने के तरीके अलग थे लेकिन धीरू भाई ने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा और देखते ही देखते उन्होंने समय के साथ चलते हुए टेलीकॉम एनर्जी और रिक्स सिटी और पेट्रोलियम जैसे व्यापार में कदम रखते गए। आप उनकी सफलता का अनुमान इसी बात से लगा सकते हैं कि धीरुभाई की कंपनी में 90000 से भी ज्यादा लोग कार्यरत हैं और भारत में उनकी कंपनी आज भी टॉप पर है। दोस्तों अगर समय की मार के अनुरूप आपने अपने आप को ढाल लिया ना तो कुछ भी असंभव नहीं रह जाता।

6 जुलाई 2002 को धीरूभाई अंबानी ने दुनिया से जुदा ली लेकिन उनके स्वभाव और विनम्रता की वजह से वह आज भी लोगों के दिलों में जिंदा है धीरुभाई का कहना है जो सपने देखने की हिम्मत करते हैं वो पूरी दुनिया को जीत सकते हैं हम दुनिया को साबित कर सकते हैं कि भारत एक सक्षम राष्ट्रीय है। और हम भारतीयों को प्रतियोगिता से डर नहीं लगता।

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद आपको यह कहानी कैसी लगी आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं।

Note: 

आपके पास About धीरूभाई अंबानी भारत के सबसे अमीर आदमी होने तक का सफर Dhirubhai ambani biography in hindi मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. अगर आपको हमारी Life History Of धीरूभाई अंबानी भारत के सबसे अमीर आदमी होने तक का सफर Dhirubhai ambani biography in hindi Hindi Language में अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook और WhatsApp Status पर Share कीजिये. 

Note: 

E-MAIL Subscription करे और पायें Easy Biography For Readers Dhirubhai ambani biography in hindi आपके ईमेल पर.

10 COMMENTS

  1. Dear Sir,

    I need your co-operation for a business Partnership.
    This Partnership will give us Hundreds of Millions of Dollars as profit.
    Kindly write to my personal email address below so that we can agree on terms and conditions..
    My Email: h66701824@gmail.com

    Sincerely yours,
    Andrei Ivanovich Lumpov,
    President of the expert consulting center ECC.
    “Invest-Project” Ltd. (Moscow).
    Email: h66701824@gmail.com

  2. Ciao! gyanhindime.com

    We advance

    Sending your business proposition through the feedback form which can be found on the sites in the contact partition. Contact form are filled in by our application and the captcha is solved. The profit of this method is that messages sent through feedback forms are whitelisted. This technique raise the probability that your message will be open. Mailing is done in the same way as you received this message.
    Your commercial proposal will be open by millions of site administrators and those who have access to the sites!

    The cost of sending 1 million messages is $ 49 instead of $ 99. (you can select any country or country domain)
    All USA – (10 million messages sent) – $399 instead of $699
    All Europe (7 million messages sent)- $ 299 instead of $599
    All sites in the world (25 million messages sent) – $499 instead of $999
    There is a possibility of FREE TEST MAILING.

    Discounts are valid until June 10.
    Feedback and warranty!
    Delivery report!
    In the process of sending messages we don’t break the rules GDRP.

    This message is automatically generated to use our contacts for communication.

    Contact us.
    Telegram – @FeedbackFormEU
    Skype – FeedbackForm2019
    Email – FeedbackForm@make-success.com
    WhatsApp – +44 7598 509161

    Hope to hear from you soon.

  3. Today, I went to the beachfront with my children. I found
    a sea shell and gave it to my 4 year old daughter and said “You can hear the ocean if you put this to your ear.” She put
    the shell to her ear and screamed. There was a hermit crab inside and it pinched her ear.
    She never wants to go back! LoL I know this is completely off topic but I had to tell someone!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here