Michael Phelps ki jivani - Gyanhindime



माइकल फेल्प्स का प्रारंभिक जीवन – Michael Phelps  Early Life Information 


michael phelps ki jivani
michael phelps ki jivani


माइकल फेल्प्स का जन्म 30 जून 1985 को अमेरिका के बाल्टीमोर नामक जगह पर हुआ था। उनके माता पिता ने उन्हें केवल 7 साल की उम्र में स्विमिंग सीखने के लिए भेज दिया था। उनकी माता पिता चाहते थे कि वह केवल स्विमिंग करना सीख जाए। लेकिन फेल्प्स को जैसे स्विमिंग का भूत सवार हो गया था। और उन्होंने इसी में अपना करियर बनाने की सोच ली। देखते ही देखते उन्होंने केवल 10 साल की उम्र में अपने आप को इतना ट्रेन कर लिया, कि अपनी उम्र के सारे नेशनल रिकॉर्ड तोड़ डाले।

 और केवल 15 साल की उम्र में उन्होंने मेहनत करते हुए, सन 2000 के समर ओलंपिक में क्वालीफाई कर लिया। और 68 साल के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए, ओलंपिक में सबसे कम उम्र में क्वालीफाई करने वाले प्लेयर बने। हालांकि वे उस ओलंपिक में एक भी मेडल जीतने में सफल नहीं रहे। लेकिन उन्होंने हार ना मानते हुए अपनी प्रेक्टिस को जारी रखा। और फिर 2004 के समर ओलंपिक में उन्होंने मेडल जीतना शुरू किया। और 6 गोल्ड दो ब्रॉन्ज मेडल जीतकर कुल 8 मेडल जीते और बहुत सारे रिकॉर्ड तोड़े।

 इसी ओलंपिक में वह अपने बचपन के हीरो इयम थोर्प के साथ कॉम्पीटित कर रहे थे। मुकाबला खत्म होने के बाद मीडिया वालों ने ईयम थोर्प से पूछा क्या आपको लगता है, कि माइकल फेल्प्स अगले समर ओलंपिक के सारे गोल्ड अपने नाम कर सकेंगे। तो इसका जवाब उन्होंने कहा कि ऐसा मुमकिन नहीं है। ऐसा करना असंभव है। जब यह बात फेल्प्स को पता चली, तो उन्होंने ठान लिया कि अगले ओलंपिक में वे सारे गोल्ड जीतकर लेकर आएंगे। और फिर उन्होंने अपनी प्रैक्टिस को और भी बढ़ा दिया।

 और यहां तक कि वह छुट्टियों में भी प्रेक्टिस करने लगे। लेकिन 2008 के समर ओलंपिक के 2 साल पहले उनकी दाहिने हाथ की कलाई फैक्चर हो गई। डॉक्टरों ने कहा, कि अब आप अपनी कलाई का उपयोग पहले की तरह नहीं कर पाएंगे। और इस बात को जानते हुए फेल्प्स ने सुमिंग के लिए अपने हाथों की वजह पैरों का उपयोग करने लगे। और उनकी मेहनत रंग लाई और 2008 के समर ओलंपिक में उन्होंने सभी फॉर्मेट में जीतकर सारे गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिए।

 और मार्क सपिट्ज़ के 7 गोल्ड मेडल का रिकॉर्ड तोड़ते हुए 8 गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिए। और ऐसा कारनामा करने वाले वे पहले खिलाडी बने। और वह अभी शांत नहीं बैठे, और 2012 के समर ओलंपिक में 4 गोल्ड 2 सिल्वर मेडल के साथ कुल 6 मेडल अपने नाम किए। 2012 के ओलंपिक के बाद उन्होंने रिटायरमेंट का फैसला कर लिया। लेकिन स्विमिंग को इतना टाइम देते हुए, वे उसमें इतने खो गए थे। कि अब वह उसे छोड़ना नहीं चाहते थे। इसीलिए उन्होंने 2014 में रिटायरमेंट का फैसला वापस ले लिया।

 और प्रैक्टिस करते हुए 2016 के रियो ओलंपिक में उन्होंने 5 गोल्ड मेडल अपने नाम की। इस तरीके से उन्होंने लास्ट 4 ओलंपिक में उन्होंने 23 गोल्ड मेडल जीतकर किसी भी खेल में सबसे ज्यादा गोल्ड मेडल जीतने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। और आखिरकार 2016 के रियो ओलंपिक के बाद इस महान खिलाड़ी ने रिटायरमेंट ले ली। लेकिन फेल्प्स ने अपने जीवन से हमें यह बता दिया, कि हार मानो नहीं, तो कोशिश बेकार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।



« और यह भी पढ़ें »

Lionel Messi  सफलता ki kahani 

ब्रॉक लेसनर biography in hindi 

Gold Medal ( Wilma Rudolph ) एक विकलांग लड़की की कहानी 






 Note:

आपके पास About michael phelps ki jivani मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. अगर आपको हमारी Blog Post  michael phelps ki jivani Hindi Language में अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook और WhatsApp Status पर Share कीजिये.


E-MAIL Subscription करे और पायें Easy Biography For Readers michael phelps ki jivani आपके ईमेल पर.






hemraj

Hemraj Kumar 


दोस्तों मेरा नाम है Hemraj Kumar है Gyanhindime.com का founder हूँ मुझे किताबों और इन्टरनेट पर नई नई रोचक जानकारी पढ़ना बहुत पसंद है और इसीलिए मेने यह Blog बनाया है की में अपने इस Wabsite Blog GyanHindiMe.com के माध्यम से आप सभी को रोचक जानकारियाँ दे सकू कृपया हमें सपोर्ट करें और हमारा मनोबल बढ़ाएं जिससे कि हम आपके लिए और रोचक और हेल्पफुल लेख लाते रहें

0/Post a Comment/Comments