Mike Tyson Ki Kahani - GyanHindMe


माइक टायसन का जन्म 30 जून 1966 को न्यूयॉर्क में हुआ। उनके पिता उन्हें छोड़ कर जा चुके थे। माइक बचपन में बहुत ही शरारती और गुस्सैल लड़के थे। उन्हें बोलने में थोड़ी तकलीफ हुआ करती थी। इस वजह से बच्चे उनका मजाक उड़ाया करते थे। 


Mike Tyson Ki Kahani
Mike Tyson Ki Kahani



माइक दूसरे बच्चों की तरह रोया नहीं करते थे। अगर उनको कोई मजाक उड़ाता था, तो वह उसे बहुत मारते थे। माइक को बचपन से कबूतरों से बहुत प्यार था। वह कबूतरों को पाला करते थे। एक बार किसी बच्चे ने उनके कबूतर को मार दिया, तो माइक ने उसे बहुत मारा।

 वह उनकी पहली लड़ाई थी। महज 13 साल की उम्र में उन्हें 38 बार जेल में जाना पड़ा था। बॉबी स्टुअर्ट नाम के एक बॉक्सर को लगा, कि माइकल बहुत अच्छे बॉक्सर बन सकते हैं। उन्होंने माइक को कुछ महीने तक ट्रेन किया। फिर उन्होंने माइक का परिचय गस डिमाको से कराया। वह अमेरिकन बॉक्सिंग ट्रेनर और मैनेजर थे। जिन्होंने फ्लोएड पीटरसन और जोसे टर्रइस जैसे नामी ग्रामी बॉक्सेरो को ट्रेन किया था। अब गस को माइक में भी एक चैंपियन दिखने लगा। जब माइक 16 के थे तब उनकी मां का देहांत हो गया। उनका कहना था कि उनकी मां उनसे कभी खुश नहीं थी। 

वह अपनी मां से बात भी नहीं करते थे। लेकिन यह सारी परेशानियों का असर उनकी बॉक्सिंग पर कभी नहीं पड़ा। अब गस ही उनके ऑफिशल ट्रेनर और गार्डियंस बने। उन्होंने जबरदस्त फुर्ती और ताकत के दम पर 1981 और 1982 में जूनियर ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीते। जूनियर ओलंपिक में सबसे तेज नॉक आउट का खिताब भी उन्हीं के नाम है। जहां पर अपोनेंट को उन्होंने केवल 8 सेकंड में नोकआउट किया। उन्हें किड डायनामाइट और आयरन माइक कहा जाने लगा। उन्होंने 18 साल की उम्र में प्रोफेशनल बॉक्सिंग में कदम रखा। 

और फिर उनकी जीत का सिलसिला शुरू हो गया। उन्होंने अपने करियर की एक साल में ही 15 फाइट लड़ी और सारी की सारी फाइट उन्होंने जीती। उनके सामने 30 सेकंड से ज्यादा कोई टिक नहीं पाता था। माइक ने अपने करियर की 19 फाइटर नॉकआउट से जीती। नवंबर 1986 को उन्होंने अपना पहला टाइटल मैच खेला। उनका मुकाबला ट्रेवर से हुआ। मुकाबला बहुत ही जबरदस्त था। माइक टेक्निकल नौकर से जीत गए। और महज 20 साल 4 महीने की उम्र में दुनिया के यंगेस्ट हेविवेट चैंपियन बन गए। अब उनके पास कई मिलियन डॉलर थे।

 वह काफी फेमस हो चुके थे। उन्होंने उस वक्त की मशहूर टीवी एक्ट्रेस रोबिन गिवेन्स से शादी कर ले। शादी के बाद रोबिन उनके प्रोफेशनल करियर में दखल देने लगी। और उनके अकाउंट चेक करने लगी। 1988 में उनका मुकाबला माइकल स्पिंक्स से हुआ, माइकल जीत गए और उन्हें 23 मिलियन डॉलर मिले। रोबिन उन पैसों पर अपना अधिकार जमाना चाहती थी। और उन्हें डिप्रेशन के शिकार बनाते हुए कहा, कि वह उन्हें मारते हैं। बाद में यह सब आरोप झूठे साबित हुए, और 1 साल के अंदर ही उन्होंने तलाक ले लिया। आगे चलकर उन्हें पता चला कि उनके मैनेजर ने उनके अकाउंट में हेराफेरी करके उन्हें नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने उसे निकाल दिया।


इतना सारा पैसा और शोहरत मिलने के बाद उनकी लाइफस्टाइल में बदलाव आने लगा। वह अपनी गर्लफ्रेंड के साथ रहने लगे। और ड्रग्स जैसे नशे करने लगे। इस बीच उनकी मुलाकात हुई, एक मिस ब्लैक अमेरिका कंटेंशन से। माइक उसके साथ एक होटल में चले गए। 3 दिन बाद माइक पर रेप केस का आरोप लगा। माइक इस सबसे हैरान थे। उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि उनके साथ ऐसा होगा। उन्होंने कहा कि रूम में जो कुछ हुआ वह हम दोनो की सहमति से हुआ। लेकिन वह इस बात को कोर्ट में साबित नहीं कर पाए। उन्हें 6 साल की सजा हुई। 

जेल में उन्होंने इस्लाम धर्म अपना लिया। और वह बन गए मलिक अब्दुल अजीज, उनके अच्छे चाल चलन की वजह से उन्हें 3 साल में ही रिहा कर दिया गया। 1995 में उन्होंने फिर वापसी की और अपनी मेहनत और लगन के दम पर वह दोबारा हैवीवेट चैंपियन बन गए। अब वह पैसा और शोहरत दोबारा हासिल कर चुके थे। सब कुछ ठीक चल रहा था, तभी उनका मुकाबला होलीफील्ड से हुआ, माइक शुरू से ही कमजोर नजर आ रहे थे तभी मैच के बीच में माइक ने होलीफील्ड के कान को चबा डाला। 

इस घटना से सब आश्चर्यचकित रह गए। माइक्रो जगह को सजाने लगा। दर्शकों के साथ उनकी गाली गलौज की भी घटना सामने आई। उन्हें 1 साल के लिए बॉक्सिंग से बहन कर दिया गया। फिर उन्होंने डब्ल्यूडब्ल्यूएफ में हाथ आजमाया लेकिन वहां पर ज्यादा नहीं चले। एक साल बाद बॉक्सिंग में कमबैक करने के बाद वह नाकाम रहे। 2005 में उन्होंने बॉक्सिंग से रिटायरमेंट ले लिया। और फिर उन्होंने फिल्मों में हाथ आजमाया। और फिर उन्होंने फॉलन चैम्प, द हैंगओवर, वन नाईट इन वेगस, द मैन इनसाइड, द कुकआउट 2, ब्लैक एंड वाइट जैसी बहुत सारी सुपरहिट फिल्मों में काम किया। 

माइक ने अपने जीवन में कुल 58 फाइट लड़ी और जिनमें से केवल 6 में उन्होंने हार का सामना करना पड़ा। माइक अकेले ऐसे बॉक्सर है जिनके पास एक ही समय मे डब्लू बी ए, डब्लू बी सी और आईबीएफ जैसी तीनों बेल्ट एक साथ थी। ईएसपीएन ने उन्हें द हार्डएस्ट हिटर इन हैवीवेट हिस्ट्री कहां है। स्काई स्पोर्ट्स ने उन्हें सकैरिस्ट बॉक्सर एवर कहां है। और आज में एक अच्छे एक्टर के तौर पर सामने आए हैं। माइक ने अपनी जिंदगी में काफी गलतियां की हैं। जिन्हें स्वीकार कर आगे बढ़ चुके हैं। आज वह अपनी पत्नी और बच्चों के साथ एक शांत जीवन जी रहे हैं।



« और यह भी पढ़ें »

जाने बॉडीबिल्डर से एक्टर बनने तक की कहानी 

महानतम बॉक्सर मोहम्मद अली की कहानी 

माइकल जॉर्डन बास्केटबॉल भगवान की कहानी




 Note:

आपके पास About Mike Tyson Ki Kahani  मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इस अपडेट करते रहेंगे. अगर आपको हमारी Blog Post  Mike Tyson Ki Kahani  Hindi Language में अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook और WhatsApp Status पर Share कीजिये.


E-MAIL Subscription करे और पायें Easy Biography For Readers Mike Tyson Ki Kahani  आपके ईमेल पर.






hemraj

Hemraj Kumar 


दोस्तों मेरा नाम है Hemraj Kumar है Gyanhindime.com का founder हूँ मुझे किताबों और इन्टरनेट पर नई नई रोचक जानकारी पढ़ना बहुत पसंद है और इसीलिए मेने यह Blog बनाया है की में अपने इस Wabsite Blog GyanHindiMe.com के माध्यम से आप सभी को रोचक जानकारियाँ दे सकू कृपया हमें सपोर्ट करें और हमारा मनोबल बढ़ाएं जिससे कि हम आपके लिए और रोचक और हेल्पफुल लेख लाते रहें

0/Post a Comment/Comments