वैलेंटाइन डे आखिर क्यों मानते हैं valentine day kyu manaya jata hai

valentine day kyu manaya jata hai आजकल के युवक युक्तियां वैलेंटाइन डे को प्यार का दिन मानते हैं। लेकिन क्या आप लोगों को यह पता है कि इसे क्यों बनाते हैं? तो चलिए जानते हैं।


valentine day kyu manaya jata hai
valentine day kyu manaya jata hai


 तीनवीं सदी में रोम में क्लॉडियस द्वितीय का राज था। उस समय लोग शादी नहीं किया करते थे, और कई औरतों के साथ संबंध बनाया करते थे। और वह भोग विलास में ही डूबे रहते थे। अगर उन्हें कोई औरत पसंद नहीं आती थी तो वे उसे छोड़कर दूसरी औरत के साथ संबंध बनाने लगते थे।

 वैलेंटाइन आखिर क्यों बनाते हैं valentine day kyu manaya jata hai


राजा क्लॉडियस ने यह पाया कि जो सैनिक शादीशुदा होता है वह युद्ध में ठीक से नहीं लड़ पाता है। और जिस व्यक्ति की शादी नहीं होती वह युद्ध में काफी अच्छी तरीके से लड़ता है, तो इसको देखते हुए राजा ने यह आदेश दे दिया कि कोई भी सैनिक शादी नहीं करेगा। राजा के डर से लोगों ने इसका विरोध भी नहीं किया।


उस समय एक पादरी हुआ करते थे जिनका नाम सेंट वेलेंटाइन था। जिन्होंने भारतीय सभ्यता को जाना। और वह इससे इतना प्रभावित हुए की वह शादी करने के फायदे लोगों को बताया करते थे। कि किस तरह अगर आप एक औरत से शादी करते हैं तो आपका जीवन कितना सुख में रहेगा और आप खुशहाल रहोगे।


राजा ने आदेश दिया था कि कोई भी सैनिक शादी नहीं करेगा, लेकिन फिर भी वैलेंटाइन उन लोगों की शादी कराते थे जो जोड़े एक दूसरे से प्यार किया करते थे। जब सैनिकों को पता चलने लगा कि वैलेंटाइन प्यार करने वाले जोड़ों की शादियां कराते हैं, तो वह भी  उनके पास जाने लगे। और अपने प्यार के साथ शादी करने लगे।

 वैलेंटाइन आखिर क्यों बनाते हैं valentine day kyu manaya jata hai


जब राजा को यह बात पता चल गई कि वैलेंटाइन शादी कराते हैं तो वह इस बात से बहुत ही गुस्सा हुए। और उनसे यह बात बोली कि तुम शादी कराना बंद कर दो। लेकिन वैलेंटाइन ने साफ इंकार कर दिया जिससे वह और गुस्सा हो गए और उन्हें मौत की सजा सुना दी।


जब वैलेंटाइन कारावास में थे तब वहां जो पहरा दिया करते थे उस सैनिक की बेटी देख नहीं पाती थी। और इस सैनिक को पता चला कि वैलेंटाइन के पास कुछ ऐसी दवाइयां है जिनसे कि लोगों के रोग ठीक हो जाते हैं।तब उसने वैलेंटाइन से गुजारिश की कि वह उसकी बेटी की आंखें ठीक कर दे।


वैलेंटाइन ने उसकी बेटी की आंखे ठीक कर दी। और उसकी बेटी वैलेंटाइन से मिलने आती रही। धीरे-धीरे वैलेंटाइन को उस लड़की से प्यार हो गया। और उस लड़की को भी वैलेंटाइन से प्यार हो गया।


लेकिन वैलेंटाइन को फांसी की सजा सुनाई गई थी। जिस बात से वह लड़की बहुत परेशान थी। और हर वक्त परेशानी में रहा करती थी। जब वैलेंटाइन को फांसी दी जा रही थी तो उससे पहले उसने एक पत्र लिखा उस लड़की के लिए और उस लेटर में लिखा था "तुम्हारा वेलेंटाइन"।


जब वैलेंटाइन को फांसी दे दी गई तो उसके बाद जिन लोगों की वैलेंटाइन ने शादियां कराई थी वह वैलेंटाइन की फांसी के दिन को वैलेंटाइन डे मनाने लगे। और यह धीरे-धीरे वह हर लोग बनाने लगे जो एक दूसरे से प्यार किया करते थे। और तभी से वैलेंटाइन डे मनाया जाता है।


« और यह भी पढ़ें »











NOTE

आपके पास मैं और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इसे समय समय पर अपडेट करते रहेंगे.अगर आपको हमारे लेख अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook और          WhatsApp पर Share कीजिये.           E-MAIL Subscription करे और पायें बड़े आसानी लेख अपने ईमेल पर.












hemraj

Hemraj Kumar 


दोस्तों मेरा नाम है Hemraj Kumar है Gyanhindime.com का founder हूँ मुझे किताबों और इन्टरनेट पर नई नई रोचक जानकारी पढ़ना बहुत पसंद है और इसीलिए मेने यह Blog बनाया है की में अपने इस Wabsite Blog GyanHindiMe.com के माध्यम से आप सभी को रोचक जानकारियाँ दे सकू कृपया हमें सपोर्ट करें और हमारा मनोबल बढ़ाएं जिससे कि हम आपके लिए और रोचक और हेल्पफुल लेख लाते रहें

0/Post a Comment/Comments