महानतम बॉक्सर मोहम्मद अली की कहानी muhammad ali biography in hindi


सवार हो जाए अगर सिर्फ पर की कुछ पाना है। तो फिर क्या रह जाएगा इस दुनिया में जो हाथ नहीं आना है।


महानतम बॉक्सर मोहम्मद अली की कहानी Muhammad Ali biography in hindi हम बात कर रहे हैं बॉक्सिंग रिंग में दहशत के दूसरा नाम इस दुनिया की सबसे महानतम बॉक्सर मोहम्मद अली की। जिसके केवल नाम मात्र से ही विरोधियों के पसीने छूट जाया करते थे। आप उनकी महानता का अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं कि। उन्होंने अपने लाइफ में प्रोफेशनल तौर पर कुल 61 फाइट लड़ी। जिनमें से 56 मुकाबले में उन्होंने शानदार जीत हासिल की।


और केवल 5 बार उन्होंने हार का सामना करना पड़ा। लेकिन मोहम्मद अली को केवल बॉक्सिंग का बादशाह कहना उनके सम्मान को कम करने जैसा होगा। क्योंकि बॉक्सिंग के बहार के करियर में उन्हें दुनिया के महानतम बॉक्सर में शामिल किया है। और पूरे विश्व में उन्हें एक अलग पहचान दी है।


अली बॉक्सर होने के साथ ही साथ एक क्रांतिकारी समाज सेवक भी थे। जिन्होंने अमेरिका पर हो रहे अश्वेत लोग साथ अत्याचार के खिलाफ जमकर आवाज़ उठाई थी। तो चलिए दोस्तों इस महानतम बॉक्स के बारे में हम शुरू से जानते हैं। और उनकी अद्भुत जीवन से कुछ प्रेरणादायक बातों को सीखते हैं।


मोहम्मद अली का प्रारंभिक जीवन -muhammad ali Early Life Information in Hindi


muhammad ali biography in hindi
muhammad ali biography in hindi



मोहम्मद अली का जन्म 17 जनवरी 1942 को अमेरिका के केंटकी की राज्य में लोइसवेली नाम की जगह पर हुआ था। बच्चन में उनका नाम 'कैसीएस मर्कलेस क्ले' था। लेकिन बाद में उन्होंने अपना धर्म परिवर्तन करवाकर इस्लाम धर्म में बदल गए। और उन्होंने अपना नाम मोहम्मद अली रख लिया।दोस्तों अली को अपने रंग की वजह से नस्लीय भेद -भाव का शिकार होना पड़ा था।


क्योंकि जब वह पैदा हुए थे उस समय नस्ल भेद चरम पर था। और सभी चीजों का बंटवारा लोगों के काले या गोरे होने से किया जाता था। बचपन में केवल एक दुकानदार ने अली को पानी पीने से इसलिए मना कर दिया था , क्योंकि वह काले थे। और वह बात अली के दिल पर चोट कर गई। और उसी समय अली ने यह ठान लिया की वह इस भेदभाव को जड़ से खत्म कर देंगे।


महानतम बॉक्सर मोहम्मद अली की कहानी muhammad ali biography in hindi


दोस्तों अली की बॉक्सिंग की शुरुआत भी एक अजीब ही दुर्घटना से हुई थी। दरअसल अली जब 12 साल के थे। तक उनके पिता ने उन्हें एक साइकिल तोहफे के तौर पर दी थी। अली उस साइकिल को बहुत पसंद करते थे। और उसकी जीजान से देखभाल करते थे। लेकिन दुर्भाग्य से उनकी साइकिल को किसी ने चुरा लिया था।


जिस बात से उन्हें बहुत दुख हुआ। और फिर अली ने ठान लिया की वह उस चोर को किसी की मदद ना लेकर खुद ही पकड़ेंगे और खुद उसको सजा देंगे। इसी बात को सोचते हुए व अपने एक जान पहचान के पुलिस अंकल के पास गए। और फिर उनसे चोर को पकड़ने का तरीका पूछा।


इस बात का जवाब देते हुए अंकल ने कहा।कि बेटा चोर को ऐसे थोड़ी पकड़ा जाता है चोर को पकड़ने के लिए बॉक्सिंग आनी बहुत जरुरी होती है। इस बात को अली ने सोचते हुए बॉक्सिंग करना शुरु कर दिया। लेकिन समय बितने के साथ ही साथ उनके ऊपर बॉक्सिंग सीखने का एक जुनून सा सवार हो गया फिर क्या था 6 साल बाद 1960 में रूम ओलंपिक में दुनिया ने अली का असली रूप देखा।


महानतम बॉक्सर मोहम्मद अली की कहानी muhammad ali biography in hindi


और जब उनका मुक्का गोल्ड पर जा लगा। उस समय अली की उम्र केवल 18 साल थी। 1960 में रूम ओलंपिक गेम में गोल्ड जीतने के बाद वह अमेरिका के लोगों में बहुत जाता पसंद किए जाने लगे। लेकिन बॉक्सिंग में असली चुनौती उनकी 22 साल में आकर शुरु हुई। जब उनका मुकाबला सनी लिस्टन से हुआ।


दोस्तों उस समय लिस्टन के सामने कोई टिकने की हिम्मत नहीं रखता था। लेकिन मोहम्मद अली ने लिस्टन को हराकर वह मुकाबला अपने नाम कर लिया। और उनकी इस जीत ने बॉक्सिंग जगत में उनकी हाहाकार मचा दी थी। हालांकि कुछ लोग इसे इत्तेफाक मान रहे थे। लेकिन एक बार फिर से अगले साल अली ने लिस्टन को दुबारा हराकर लोगों की बोलती बंद कर दी थी।


दोस्त 6फिट 3इंच लंबे मोहम्मद अली जब लड़ने के लिए रिंग में उतरते थे तो विरोधियों के पसीने छूट जाया करते थे। लेकिन दोस्तों अश्वेत लोग के साथ हो रहे अत्याचारों के खिलाफ आवाज उठाने की वजह से मोहम्मद अली के जीवन में साहसी उथल-फुतल मची हुई थी। और इन्हीं सभी समस्याओं से परेशान होकर अली ने इस्लाम धर्म अपना लिया।


अली अपने पुराने नाम को गुलामी की पहचान कहते थे। लेकिन यहां से उनकी परेशानी कम नहीं हुई। बल्कि और भी बढ़ गई। वियतनाम युक्त के समय अली ने अमेरिका सेना के साथ जाने से मना कर दिया। जिसकी वजह से उनके सभी मेडल उनसे छीन लिए गए। और इसी तरह बॉक्सिंग लाइसेंस और सभी पासपोर्ट लेकर उन पर बैन लगा दिया गया।


महानतम बॉक्सर मोहम्मद अली की कहानी muhammad ali biography in hindi


और 5 साल की सजा सुनाई गई। लेकिन मोहम्मद अली का हौसला अभी भी पस्त नहीं हुआ। उन्होंने अमेरिकी सरकार के खिलाफ लड़ाई लड़ी। और फिर कोर्ट ने उन पर लगे आरोपों को सही नहीं मानते हुए फैसले को बदल दिया। और उन पर लगाए गए सभी प्रतिबन्दों को हटा दिया।


मोहम्मद अली ने करीबन 3 साल बाद 1971 में फिर से वापसी की। लेकिन वह अपना पहला मुकाबला हार गए। और इसी के साथ उनका कभी ना हारने का रिकार्ड टूट गया। लेकिन अगली ही फाइट से अली जीत की और वापस लौटे। और उसके बाद से कभी भी पीछे ना देखते हुए बॉक्स में अपनी बादशाही जारी रखी।


मोहम्मद अली को इस दुनिया में सबसे हैवी मुक्केबाज कहा जाता है। उन्होंने तीन बार हैवी वेट चैंपियनशिप अपने नाम की है। आखिरकार बॉक्सिंग की सारे रिकॉर्ड तोड़ते हुए उन्होंने 1981 में बॉक्सिंग से अलविदा कह दिया। और 1984 में उन्हें पार्किंसन नाम की बीमारी हो गई। जिस बीमारी की वजह से उनके हाथ पैर के साथ-साथ उनकी जुबान भी थरथराने लगी।


लेकिन अली का संघर्ष आखिरी दम तक चलता रहा। और वह दुनिया भर में शांति और दोस्ती का कदम बढ़ाते रहे। 2005 में उन्हें अमेरिका के सबसे बड़े अवार्ड प्रेसिडेंशियल मैडल ऑफ फ्रीडम से सम्मानित किया गया।


अगर बात की जाए अली की पर्सनल लाइफ की तो उन्होंने चार शादियां की। जिनसे उन्हें कुल 9 बच्चे हुए जिनमें सात बेटे और दो बेटियां हुई। उन बच्चों में से उनकी सबसे छोटी बेटी लैला अली भी बहुत अच्छी बॉक्सर रही हैं। मोहम्मद अली ने अपने किसी भी फैन को ऑटोग्राफ देने से मना नहीं किया।


क्योंकि चुप बैठ छोटे थे तब उस समय की फेमस बॉक्सर सुघर रै रॉबिन्सन से ऑटोग्राफ मांगा था। लेकिन रॉबिन ने उन्हें ऑटोग्राफ नहीं दिया। और टाइम ना होने का बहाना बनाकर आगे निकल गए। रॉबिन्सन की उस बात का अली को बहुत दुख हुआ था। और वह नहीं चाहते थे कि उनके मना करने से उनके किसी भी फैन का दिल टूटे।


वैसा ही वह बन जाता है। अपनी सोच हमेशा सकारात्मक ही रखिए। क्यूंकि दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं। जीत की खातिर जुनून चाहिए ऐसा खून हो जिसमें उबाल चाहिए। यह आसमां भी आ जाएगा जमी पर दोस्तों। बस हमारे इरादों में जीत की गूंज चाहिए।


आखिरकार शांति और दोस्ती के तरफ कदम बढ़ाते हुए। हे विवेक के बादशाह ने 3 जून 2016 को अपनी अंतिम सांसे ली। लेकिन दोस्तों बॉक्सिंग करने वाले आएंगे और चले जाएंगे लेकिन थ ग्रेटेस्ट एवर हमेशा एक ही रहेगा। दोस्तों मनुष्य अपने विचारों से बना होता है जैसा सोचता है



« और यह भी पढ़ें »

सारी जीवन कभी भी ना हारने वाले पहलवान की कहानी 

हॉकी का जादूगर मेजर ध्यानचंद की कहानी 

दुनिया के सबसे तेज धावक उसैन बोल्ट की कहानी

रोनाल्डो फुटबॉल गेम के भगवान की जीवनी 





NOTE

आपके पास मैं महानतम बॉक्सर मोहम्मद अली की कहानी muhammad ali biography in hindi  और Information हैं, या दी गयी जानकारी मैं कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट मैं लिखे हम इसे समय समय पर अपडेट करते रहेंगे.अगर आपको हमारे लेख अच्छी लगे तो जरुर हमें Facebook और          WhatsApp पर Share कीजिये.           E-MAIL Subscription करे और पायें बड़े आसानी लेख अपने ईमेल पर.












hemraj

Hemraj Kumar 


दोस्तों मेरा नाम है Hemraj Kumar है Gyanhindime.com का founder हूँ मुझे किताबों और इन्टरनेट पर नई नई रोचक जानकारी पढ़ना बहुत पसंद है और इसीलिए मेने यह Blog बनाया है की में अपने इस Wabsite Blog GyanHindiMe.com के माध्यम से आप सभी को रोचक जानकारियाँ दे सकू कृपया हमें सपोर्ट करें और हमारा मनोबल बढ़ाएं जिससे कि हम आपके लिए और रोचक और हेल्पफुल लेख लाते रहें

0/Post a Comment/Comments